चालू वित्त वर्ष तक 2 लाख फास्टैग जारी करेगा एनएचएआई

नई दिल्ली । भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) ने चालू वित्त वर्ष (2016-17) के आखिर तक 2 लाख फास्टैग जारी करने का लक्ष्य रखा है । पिछले माह इसका आंकड़ा 10,000 से पार कर गया । इसका मकसद राष्ट्रीय राजमार्गों से बाधारहित यात्रा सुनिश्चित करना है । फास्टैग के माध्यम से टोल प्लाजा पर देर तक रुकने की झंझट से मुक्ति मिलती है, क्योंकि इससे टोल का भुगतान नकदी रहित होता है । इससे देश भर में ईटीसी सेवाओं के माध्यम से भुगतान किया जा सकता है । देश के राजमार्गों पर स्थित 335 से ज्यादा टोल प्लाजा पर फास्टैग सुविधा उपलब्ध है । एक आधिकारिक बयान में कहा गया है कि एनएचएआई इलेक्ट्रॉनिक टोल संग्रह (ईटीसी) के लिए समर्पित लेन भी तय करेगी ।
राजमार्गों पर स्थित टोल प्लाजा पर फास्टैग या नकदी रहित भुगतान व्यवस्था की बिक्री जून 2016 में 10,000 के आंकड़े को पार कर गई । ईटीसी के माध्यम से हर महीने में टोल संग्रह 1 करोड़ रुपये से ज्यादा का हो गया है । टोल प्लाजा पर नकदी रहित भुगतान व्यवस्था फास्टैग की शुरुआत इस साल 25 अप्रैल को की गई थी । दिल्ली-मुंबई और मुंबई-चेन्नई गलियारों के 48 टोल प्लाजा पर समर्पित फास्टैग लेन बने हुए हैं । सड़क का इस्तेमाल करने वाले लोगों को फास्टैग खरीदने के लिए इन गलियारों के 23 टोल प्लाजा पर बिक्री केंद्र बनाए गए हैं ।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


15 − fourteen =